होम » वीडियो

'चीता' को याद कर भावुक हुई मां, बोलीं- बचपन से ही बहादुर है मेरा बेटा

कोटा11:22 PM IST Feb 17, 2017

एक के बाद एक कई गोलियां लगने के बाद भी चीते की तरह दहाड़ने वाले कोटा के जाबांज बेटे में बहादुरी बचपन से ही कूट-कूट कर भरी हुई है. अपने जांबाज बहादुर बेटे के बारे में उनकी मां का कहना है कि वो बचपन से ही बहादुरी है और वो पहले से ही जानती थीं कि उनका बेटा देश के दुश्मनों को मुंह तोड़ जवाव देगा. यह कहते कहते हुए मां की आंखें भर आईं. बेटे के जल्द स्वस्थ होने की कामना को लेकर पूरे शहर में पूजा-पाठ और यज्ञ किया जा रहा है. वहीं बहादुर बेटे की मां को अपने बेटे पर गर्व है. आपको बता दे कि सीआरपीएफ की 92वीं बटालियन के कमांडेट चेतन कुमार चीता ने मौत के मुहाने पर खड़ा होने के बावजूद भी लश्कर-ए-तैयबा के आतंकी कंमाडर अबु हारिश को ढेर कर दिया था. लेकिन कमांडेट चेतन कुमार चीता के शरीर पर कई गोलियां लगने से वह भी गंभीर रूप से घायल हो गए थे. उनका दिल्ली स्थित एम्स के ट्रॉमा सेंटर में इलाज चल रहा है.

ETV Rajasthan

एक के बाद एक कई गोलियां लगने के बाद भी चीते की तरह दहाड़ने वाले कोटा के जाबांज बेटे में बहादुरी बचपन से ही कूट-कूट कर भरी हुई है. अपने जांबाज बहादुर बेटे के बारे में उनकी मां का कहना है कि वो बचपन से ही बहादुरी है और वो पहले से ही जानती थीं कि उनका बेटा देश के दुश्मनों को मुंह तोड़ जवाव देगा. यह कहते कहते हुए मां की आंखें भर आईं. बेटे के जल्द स्वस्थ होने की कामना को लेकर पूरे शहर में पूजा-पाठ और यज्ञ किया जा रहा है. वहीं बहादुर बेटे की मां को अपने बेटे पर गर्व है. आपको बता दे कि सीआरपीएफ की 92वीं बटालियन के कमांडेट चेतन कुमार चीता ने मौत के मुहाने पर खड़ा होने के बावजूद भी लश्कर-ए-तैयबा के आतंकी कंमाडर अबु हारिश को ढेर कर दिया था. लेकिन कमांडेट चेतन कुमार चीता के शरीर पर कई गोलियां लगने से वह भी गंभीर रूप से घायल हो गए थे. उनका दिल्ली स्थित एम्स के ट्रॉमा सेंटर में इलाज चल रहा है.

Latest Live TV